Follow @nandinibooks
IISGNII गुरुर ब्रह्मा गुरुर विष्णु गुरुर देवो महेश्वरः गुरुः साक्षात्परब्रह्मा तस्मै श्री गुरुवे नमः

श्रीविष्णु-पुराण (Shri Vshnu Puran) Book Code: 0048

140.00 140.00

श्री पराशर ऋषि-प्रणीत यह पुराण अत्यन्त महत्त्वपूर्ण है। इसके प्रतिपाद्य भगवान् विष्णु हैं, जो सृष्टि के आदिकारण, नित्य, अक्षय, अव्यय तथा एकरस हैं। इसमें आकाश आदि भूतों का परिमाण, समुद्र, सूर्य आदि का परिमाण, पर्वत, देवतादि की उत्पत्ति, मन्वन्तर, कल्प-विभाग, सम्पूर्ण धर्म एवं देवर्षि तथा राजर्षियों के चरित्र का विशद वर्णन है। भगवान् विष्णु प्रधान होने के बाद भी यह पुराण विष्णु और शिव के अभिन्नता का प्रतिपादक है। सचित्र, सजिल्द।

This important puran is also known as a work of Maharshi Parashar. Bhagvan Vishnu is the prime deity described as creator and all pervading supreme power. This also contains detailed description of elements like sun, mountains, division of time and many captivating stories of great kings and saints. Even as related mainly to Vishnu this Puran depicts the inner identity of Bhagwan Vishnu and Shiva. A hard bound and illustrated edition.

Reviews

Follow @nandinibooks